8 Navy Officers Qatar News: भारतीय नेवी अफसरो को मौत की सजा

8 Navy Officers Qatar News: आज की बड़ी खबर कतर में आज 8 पूर्व भारतीय नेवी अफसरो को मौत की सजा. कतर की एक अदालत ने अफसरो को मौत की सजा सुनाई, जासूसी के आरोप में इन लोगों को गिरफ्तार किया था.

सभी लोग कतर की एक निजी कंपनी में काम कर रहे थे. कतर की अदालत के फैसले पर भारत सरकार ने हैरानी जताई है, हम इस मामले को बहुत ही गंभीरता से ले रहे हैं. भारत के लिए सभी कानूनी विकल्पों की तलाश की जा रही है.

कतर में फंसे भारतीय नौसेना के आठ पूर्व अवसर कतर में हिरासत में है, इंडियन नेवी के आठ पूर्व अवसर 70 दिनों से अवैध तरीके से हिरासत में है. कतर की जो अमरी नौसेना है वहांपर काम कर रहे थे सीडीआर पूर्णेन्दु तिवारी की बहन की सरकार से गुहार सामने आई है, पूर्व अफसरो को जल्द भारत लाया जाए, यह उनके परिजन कह रहे हैं

आज बहुत बड़ी और बहुत चिंता जनक खबर कतर से इस समय सामने आ रही है, कतर ने आज पूर्व भारतीय नौसेना के अधिकारियों को फांसी की सजा के सभी आठ पूर्व नौसेना के अधिकारी और अफसरो की जेल में पिछले लगभग आठ सहायक माहीनो से बंद है.

इस फैसले पर विदेश मंत्रालय ने प्रतिक्रिया भी दी है, और यह कहा है कि भारत को बहुत ज्यादा चिंता है, इस निर्णय से यह फर्स्ट कोर्ट का आर्डर है. और अभी विदीन ऑर्डर की प्रतीक्षा है विस्तृत फैसले का भारत इंतजार कर रहा है और इस फैसले से गहरा सदमा लगा है.

8 Navy Officers Qatar News

भारतीय नौसेना के आठ पूर्व अफसर क्यों हुए थे गिरफ्तार (8 Navy Officers Qatar News)

अगस्त 2022 में भारतीय नौसेना के 8 रिटायर्ड ऑफिसर्स को कतर में गिरफ्तार कर लिया गया वहां के इंटेलिजेंस ऑफिसर्स ने उन्हें उनके घर जाकर गिरफ्तार किया लेकिन उनके साथ ऐसा क्यों किया गया इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं दी गई.

गिरफ्तारी के बाद उन्हें अलग-अलग जगह पर कैद कर दिया गया इन ऑफिसर्स को कैद हुई करीब 7 महीने से ज्यादा हो गए हैं लेकिन अभी तक भी उन्हें छुड़ाया नहीं जा सका है यह ऑफिसर्स कतर की नौसेना को ट्रेनिंग देने वाली एक निजी कंपनी में काम कर रहे थे.

अब बहुत जल्द इन सभी ऑफिसर के खिलाफ आरोप तय किए जाएंगे और उन्हें कतर की अदालत में मुकदमों का सामना करना पड़ेगा. अगर ऐसा होता है तो उनके भारत लौटने की उम्मीद पर पानी फिर जाएगा.

जिन आठ पूर्व नौसेना ऑफिसर्स को गिरफ्तार किया गया है उनके नाम है कैप्टन नवजीत सिंह, वीरेंद्र कुमार वर्मा, कमांडर तिवारी, कमांडर सुगनाकर पकला, कमांडर संजीव गुप्ता, कमांडर अमित नागपाल और सेलर राजेश.

यह सभी कतर में धारा ग्लोबल टेक्नोलॉजी एंड कंसल्टेंसी नाम की निजी कंपनी में काम करते थे. शुरुआत में बताया गया था मिडल ईस्ट मीडिया की माने तो कतर ने इन आठ पूर्व अधिकारियों को इसराइल के जासूसी करने के आरोप में हिरासत में लिया है.

लेकिन कतर की तरफ से इस बारे में कोई सफाई आम तौर पर नहीं दी गई है. अधिकारियों के परिवार वालों ने पीएम और विदेश मंत्रालय से मामले में हस्तक्षेप करने की गुजारिश की थी, विदेश मंत्रालय लगातार पर इन सभी पूर्व अधिकारियों को छोड़ने का दबाव बना रहा है.

Leave a Comment