Rajesh Exports Story: 10,000 उधार लेकर, बना डाली हैं 13,800 करोड़ की कंपनी!

Rajesh Exports Story आजकल भारत में Startup Culture का बड़ा क्रेज है और इसी Culture के एक महानायक की कहानी है राजेश मेहता की, जिनहोने शून्य से शुरू करके हजारों करोड़ रुपए के करोबार का मालिक बन गए हैं। यह सत्य है कि आजकल Startups के लिए माहौल suitable हैं, परंतु इसे यहां तक पहुंचना उतना ही कठिन है जितना कि यह सुना जाता है। राजेश मेहता ने इस सफलता की कड़ी मेहनत, सही निर्णय, और Business Planing के साथ बनाई है।

राजेश मेहता के जीवन का उनके लिए परिवर्तनशील समय एक ही लोन के साथ सोने के व्यापार में प्रवेश करने का निर्णय था। महज 10,000 रुपये उधार लेकर गोल्ड बिजनेस की शुरुआत करके राजेश मेहता ने आज एक बड़ी कंपनी को Start किया है, जो देश की सबसे बड़ी Gold Export करने वाली Companby में शामिल है। इसके लिए उन्होंने Zero से शुरूआत की, अपनी मेहनत और संघर्ष के साथ, जो आज उन्हें देश के प्रमुख Gold व्यापारी बना देता है। Rajesh Exports Story हमें यह सिखाती है कि अगर किसी के पास सही दृष्टिकोण, सही उद्दीपन, और विश्वास हो, तो उन्हें कोई भी मुश्किल अवस्था हार नहीं सकती।

About Rajesh Mehta

StartupRajesh Exports
FounderRajesh Mehta
Home PlaceGujrat , India
Rajesh Exports 20 June 1964 (age 59)
WifeLeena Mehta
Childern2
Revenue ( FY21 )Approx. $32 Billion
Official Websitehttp://www.rajeshindia.com/

Rajesh Exports Story के शुरुवाती दिन

Rajesh Exports Story

भारत के गुजरात राज्य के रहने वाले हैं। अपने बचपन से राजेश का डॉक्टर बनने का सपना था, पर शायद उनकी किस्मत में ऐसे होना नहीं लिखा था। Rajesh Mehta का सोने के व्यापार में पहला कदम 16 साल की आयु में, बेंगलुरु में अपनी पढ़ाई के दौरान, उन्होंने अपने पिता के साथ परिवार के jewellery Business में शामिल हो गए। उनके पिताजी जसवंतरी मेहता कोर्नाटक के ज्वेलरी व्यापा के लिए आए थें, और राजेश, महत्वाकांक्षा से प्रेरित होकर, व्यापार के काम सीखने में खो गए। उन्हें यह पता ही नहीं था कि यह उनके सफलता की नींव होगी।

Rajesh Mehta के जीवन का उनके लिए परिवर्तनशील क्षण एक ही लोन के साथ सोने के व्यापार में प्रवेश करने का निर्णय था। इससे राजेश एक्सपोर्ट्स की शुरुआत हुई, जो आज देश की सबसे बड़ी सोने की निर्यात करने वाली Company में शामिल है। कंपनी की निर्माण इकाई प्रति वर्ष शानदार 400 टन सोने के उत्पादों का निर्माण करती है, जिसमें चमकदार jewellery से लेकर पदक और सिक्के तक different items शामिल हैं।

10,000 के उधार से 13,800 करोड़ की कंपनी तक का सफर

Rajesh Mehta, जिन्होंने अपने जीवन की शुरुआत एक सामान्य परिवार से की थी, उन्होंने भारतीय Jewellery Industry में अपना स्थान बनाने के लिए अपने भाई से ₹2,000 उधार लेकर और बैंक से ₹8,000 का Loan लेकर 1982 में Rajesh Exports कंपनी की नींव रखी। शुरुआत ₹10,000 के Loan के साथ, उन्होंने धीरे-धीरे अपने कारोबार को बढ़ाया और Best Quality वाले सोने के उत्पादों का निर्माण करना शुरू किया।

विचार करने पर पाया जाता है कि राजेश मेहता ने अपने करियर के महत्वपूर्ण मोड़ पर सोने के आभूषणों के निर्माण में कदम रखा, जो उन्हें एक सशक्त और प्रमुख गोल्ड व्यापारी बना दिया। उन्होंने बेंगलुरु, चेन्नई, और हैदराबाद में अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत की और 1989 में सोने के आभूषणों के कारोबार में एक नया किरदार अदा किया।

Rajesh Exports Company का Share market में list होना, उनकी कंपनी को ₹13,800 करोड़ रुपए के करोड़ों मार्केट कैप तक पहुंचाने का सबूत है। उनकी कंपनी आज Switzerland और India में Gold Refining के साथ एक गोल्ड एक्सपोर्टर के रूप में देश और दुनिया में मान्यता प्राप्त कर चुकी है। इससे हमें यह सिखने को मिलता है कि सही दिशा, संघर्षशीलता, और उद्यमिता के साथ छोटे से शुरुआती ऋण से ही महत्वपूर्ण मील के पथर पर पहुंच सकते हैं।

Rajesh Mehta Interview

इस गुजराती ने 2 Lakh Crore की Company खड़ी कर दी | Dr Vivek Bindra

अधिकतर पुछे जाने वाले सावल :

Rajesh Exports Company कब शुरू हुई थी?

Rajesh Exports कंपनी को Gujrat के रहने वाले Rajesh Mehta ने 1982 में शुरू किया था।

इस साल Rajesh Exports का Revenue कितना हैं?

इस साल Rajesh Exports का Revenue लगभग 32 Billions Dollar का रहा हैं।

Leave a Comment