Sattuz Success Story: बिहार के लड़का सचिन ने सिर्फ सत्तुज़ बिज़नेस से करोड़ों की कंपनी कैसे बनाया ? यहाँ देखें पूरी जानकारी

Sattuz Success Story: आप सभी को बता दे हमारे देश में बिज़नेस और स्टार्टअप को लेकर बहुत ज्यादा सीरियस होते हैं क्युकी सभी लोग खुद का एक बिज़नेस सुरु करना चाहते हैं | हमारे देश में बहुत ही तेजी से बुसिनेस और स्टार्टअप को लेकर चर्चे में हैं |

आप सभी को बता दें हमारे देश बहुत ऐसे बड़े बड़े बिज़नेसमेन जो की ये लोग इन्टरनेट से बहुत ज्यादा कनेक्टेड होते हैं जिसमे ऑनलाइन बिज़नेस और ऑफलाइन बिज़नेस के लिए | आप सभी जानते ही होंगे लोग तरह तरह के बिज़नेस कर के अपना खुद का एक स्टार्टअप बिल्ड कर रहे हैं |

बिज़नेस करने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी होता हैं ऑनलाइन प्लेटफार्म क्युकी आज के दुनिया में सब कुछ डिजिटल हो चूका हैं कुछ भी कर रहे हैं केवल ऑनलाइन से ही लेकिन बहुत कब अब देखने को मिल रहा हैं ऑफलाइन बिज़नेस लेकिन यहाँ भी आप सभी की क्लियर कर दूँ ऑफलाइन बिज़नेस भी बहुत अच्छा हैं |

सभी लोग सुरुवाती में बहुत ही Low Of Cost से बिज़नेस सुरु करते हैं उसके बाद यहाँ धीरे धीरे ग्रो करने लगता हैं फिर खुद का एक बड़ा बिज़नेस हो जाता हैं और आप सभी को यहाँ भी बता दूँ बिज़नेस के लिए धैर्य रखना बहुत जरुरी हैं |

अब आते हैं एक बिहार के लड़का कैसे सत्तू बना कर करोड़ों की मालिक बना और कैसे खुद का एक स्टार्टअप खड़ा किया यहाँ देखने के लिए हमारे साथ सुरु से लास्ट तक बने रहिये , चलिए सुरु करते हैं |

Sattuz Success Story – Sachin Kumar कौन हैं ?

Sattuz Success Story

Sattuz Success Story – वह सत्तूज़ के संस्थापक हैं। और उनके पास इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ प्लानिंग एंड मैनेजमेंट से एमबीए की डिग्री है। सचिन कुमार द्वारा स्थापित, सत्तुज़ सत्तू पाउडर के विभिन्न स्वादों का उत्पादन करता है, पारंपरिक ‘सुपरफूड’ जो जौ या बंगाल चने को सूखा भूनकर और फिर इसे बारीक आटे में पीसकर तैयार किया जाता है।

उद्यम का सत्तू पाउडर विभिन्न स्वादों में आता है। जलजीरा, मीठा, और चॉकलेट। वे तीनों स्वादों का एक कॉम्बो पैक और एक ट्रैवल पैक भी बेचते हैं जो सत्तू के पाउच के साथ एक कप और चम्मच के साथ आता है। बीज और प्रारंभिक चरण के निवेश में अग्रणी इंडियन एंजेल नेटवर्क ने हाल ही में सत्तूज़ में निवेश किया है।

Business Title Sattuz
HeadquartersMadhubani, Bihar, India
Founding Date2019
No. of Employees15 More
TeamSachin Kumar , Richa Kumari , Rajeev Ranjan Das

Sattuz Success Story की इस तरह हुई शुरुवात

आप सभी को बता दे सचिन कुमार एक विहार के रहेने वाला हैं और यहाँ पढाई की थी MBA और इन्होने जॉब करने के लिए बिहार से बहार गए और यहाँ जॉब कर रहा था और तभी इन्होने जॉब को छोड़ना चाहते हैं और एक खुद की बिज़नेस सुरु करना चाहते हैं |

अब यहाँ बहुत अच्छे जॉब को छोड़ कर बिहार आ गया और बिज़नेस की प्लानिंग करने लगें | लेकिन यहाँ घर आने के बाद सब लोग इनको बेरोजगार कहने लगें और लोगों ने यहाँ भी बोला की माँ पापा की नाम ख़राब कर दिया ऐसे कुछ |

तभी इनके पापा के एक छोटा बिज़नेस था उनके साथ लग गया और लोगों ने यहाँ भी कहा की ये लड़का बिज़नेस में ज्यादा दिन टिक नहीं पायेगा जिसमे यहाँ बिज़नेस छोड़ देगा लेकिन सचिन ने यहाँ साबित कर के दिखा दिया की बिज़नेस से सक्सेस मिलता हैं |

अब सचिन ने एक छोटा टीम बनाया और कुछ ऐसे ब्रांड नाम सोचा जिसमे बिहार में फेमस हो और फाइनली ये लोग एक नाम भी सोच ली जिसमे सत्तुज़ ब्रांड नाम रख लिया और यहाँ बिहार में बहुत ज्यादा फेमस हैं (Sattuz Success Story) |

इन्होने 2018 से जॉब छोड़ कर एक सत्तुज़ बिज़नेस सुरु किया तभी 1 साल से ये लोग बहुत ही परिश्रम किया उसके बाद 2019 में इन लोगों के पर पहला फौन्डिंग आने लगा इनसे इनलोगों को और भी ज्यादा मोटिवेशन मिल गया और ये लोग बहिने में लाखों रूपए से भी ज्यादा कमाते हैं | इससे पहले साल 2019 में Sattuz कंपनी ने Indian Angel Network और कई दूसरे स्टार्टअप निवेशकों से कुछ पैसे की फंडिंग भी प्राप्त की थी ताकि ये अपने बिजनेस को आगे बढ़ा सके।

Sattuz देते हैं आज कई तरह के चीजे

Sattuz कंपनी ने अपने मेनू में कई और चीजे जोड़ने का प्लान बनाया जिसमे सत्तू से बने पराठे, लिट्टी आदि चीजे शामिल थी। इसी प्लान को फॉलो करते हुए साल 2022 में Sattuz ने अपना Sattuz Cafe को शुरू किया।

Sattuz Success Story – आप सभी को बता दें इन लोगों ने कत्तुज़ से कई तरह के खाने बनाना सुरु करदिया जिसमे सत्तू से बने लिट्टी, पूरी, पराठे शामिल हैं। इनके सभी Ready To Cook फुड आइटम फ्लिपकार्ट और अमेजन पर उपलब्ध हैं।

Sattuz बन चुकी हैं आज करोड़ो की कंपनी

आप सभी को बता दें इहोने जब 2018 से कत्तुज़ कंपनी सुरु किया था तब इनके पास ज्यादा कुछ नहीं था लेकिन इनके बस धीरे धीरे कमाई होना सुरु हो गया था जिसमे आज इन्होने करोड़ों की कंपनी खड़ा करदिया हैं | 30Stades के रिपोर्ट के अनुसार FY23 में Sattuz ने 1.2 करोड़ रुपए का रेवेन्यू बनाया था और FY24 में इनका टारगेट 2 करोड़ से ज्यादा रेवेन्यू बनाना हैं।

Sattuz Success Story Interview

अगर बहुत अच्छे से जानकारी लेना चाहते हैं तो इनके यहाँ एक इंटरव्यू जरुर देखें बहुत कुछ सिखने को मिलेंगे |

Bihar से सत्तू बेचकर ऐसे पहुंचा Shark Tank India | Sachin Kumar | Sattuz | Josh Talks | Madhubani

Leave a Comment